Posted on Leave a comment

श्री वंशी अली जी



परी रहौं वृषभानु के द्वारैं, जहाँ मेरी लाड़िली राधा।
खेलत आवै सुख उपजावै, प्राणन की ये साधा॥
कीरति कुल उजियारी प्यारी, हिय की चैन अगाधा।
ठौर नहीं ‘वंशीअलि’ हिय में, और लगै सब बाधा॥



श्री वंशी अली जी 1821 ई को अश्विन शुक्ल प्रतिपदा को श्रीमती कृष्णावती जी के गर्भ से श्री प्रद्युम्न गोस्वामी जी के सुपुत्र प्रगट हुए।

माता पिता ने इनका नाम वंशीधर रखा। आगे यही आचार्य के रूप में वंशी अली के नाम से प्रसिद्ध हुए।

जन्म के पश्चात बालक वंशीधर ने माताजी के बहुत प्रयास करने के बाद भी स्तनपान नहीं किया, सभी परिवार के लोग चिंतित हो गए। सब विचार करने लगे की यदि बालक दूध नहीं पिएगा तो जीवित कैसे रहेगा। उसी समय एक ब्रजवासी बरसाने से आया और बालक के पास आकर राधा राधा रटते हुए बालक को खिलाने लगा। राधा नाम सुनते ही बालक ने स्तनपान करना आरंभ कर दिया। सभी परिवार के लोग प्रसन्न हुए और बृजवासी को भेंट प्रदान की।

अब वंशीधर जी की आयु धीरे- धीरे बढ़ने लगी। 5 वर्ष की अवस्था में उनके आसाधारण राधा प्रेम की अभिव्यक्ति खेल के माध्यम से प्रकट होने लगी। खेल में यह राधा राधा नाम का कीर्तन करते और राधा संबंधी भजन गाया करते। उनको सभी बहुत स्नेह करते। वंशीधर जी नित्य ही यमुना स्नान को जाते और लौटकर भागवत की कथा करते।

जन्म से ही श्रीवंशी अली जी दिव्य प्रतिभा संपन्न थे। इन्होंने बाल्य अवस्था में ही सम्पूर्ण वेद-शास्त्र व अनेकों संस्कृत ग्रन्थों को हृदयङ्गम कर लिया था, तर्कशास्त्र के अद्वितीय विद्वान थे, श्रीमद्भागवत के गूढ़ श्लोकों का इस प्रकार व्याख्यान करते की बड़े-बड़े प्रकाण्ड पण्डित भी आश्चर्य चकित हो जाते।

बालक वंशीधर का विवाह 15 वर्ष की अवस्था में संपन्न हुआ। जब वे बीस वर्ष के हुए तो उन्हें एक पुत्र की प्राप्ति हुयी जिसका नाम पुण्डरीकाक्ष रखा गया।

जब श्री वंशी अली 28 वर्ष के हुए तो पिता जी का धाम गमन हो गया। पिताजी के धाम गमन के एक वर्ष पश्चात राधा प्रेम में सहसा बाढ़ सी आ गई। जब राधा कुंड के एक पंडित राधाकृष्ण ने दिल्ली के मंदिर में राधा अष्टमी के उत्सव में बधाई गाई –

“रस बरसे री हेली कीरत महल में।”

उस समय श्री वंशी अली ऐसे प्रेम मगन हुए की प्रेमाश्रुओं की झड़ी लग गई। डेढ़ घंटे तक मूर्छित होकर भूमि पर पड़े रहे। चेतना आने पर हृदय में इतना प्रेम उल्लास भर गया कि उस वर्ष राधाष्टमी के उत्सव में तीन हजार रुपए खर्च कर बहुत धूमधाम से उत्सव मनाया। दूसरे वर्ष भी राधाष्टमी के उत्सव में दो हजार रूपए खर्च किए। माताजी अधिक धन खर्च करने से नाराज होकर बोली – भविष्य में इतना खर्च नहीं करना। वंशीधर को बहुत कष्ट हुआ। उन्होंने कहा
“धन किस लिए है ? ठाकुर जी की सेवा के लिए ही न।”

वंशीधर जी रुष्ट हो कर अकेले वृंदावन आ गए। कुछ दिन बाद ही नादिरशाह का दिल्ली में लूट और कत्लेआम का दौर चला। उसी में मंदिर का सारा धन चले गया जिसे माता ने राधा अष्टमी के उत्सव में खर्च करने को मना किया था। वृंदावन में रास मंडल के पास ललित कुंज में वंशीधर जी तन्मयता पूर्वक भजन करने लगे।

ललित कुञ्ज में श्रीराधारानी की आज्ञा से महासखी श्री ललिता जी ने श्री वंशीधर जी को मन्त्र-दीक्षा प्रदान किया

मन्त्र दीक्षा उपरांत श्री ललिता जी ने वंशीधर को बरसाने जाकर भजन करने की आज्ञा दी। साथ ही साथ यह आशीर्वाद भी दिया कि बरसाने में श्रीजी के दर्शन होंगे।

वंशीधर जी बरसाने आ गए। अब सभी लोग वंशी अली के नाम से पुकारने लगे। बरसाने में रंगीली गली में आसन जमा कर भजन करने लगे।

वंशीअली जी परम वैराग्यमय एवं निरंतर लीलाओं के चिंतन में जीवन यापन करते। बहुत से धनवान सेवक के होते हुए भी अपने पास तुम्बी और अंगोछे के सिवा और कुछ भी नहीं रखते। लेकिन राधा अष्टमी का उत्सव जब आता तो बीस पचीस हजार रुपए खर्च करके बहुत धूमधाम से उत्सव मनाते। श्रीमद् भागवत की कथा कहते-कहते भाव विह्वल हो जाते। भागवत जी के श्लोकों का अनेक बार अनेक प्रकार से अलौकिक नविन अर्थ करते।

वृन्दावन स्थित ललित कुंज में ही श्री किशोरी जी का नाम रटते हुए वंशी अली जी 1879 ई में आश्विन शुक्ल प्रतिपदा को नित्य निकुंज में अपनी दिव्य सखी स्वरुप में अवस्थित हो गए।

Leave a Reply