Posted on Leave a comment

श्री राधा का आंख का आंसू

दिव्य अलौकिक, अनन्य, अनन्त, आत्मा और परमात्मा का मिलन है। श्री श्यामा श्याम आठों पहर एक दुसरे को मिलने को व्याकुल रहते हैं। इसी प्रेम से सृष्टि का कण-कण स्पंदित और रोमांचित है। राधा कृष्ण प्रेम के प्रतीक हैं। श्रीकृष्ण की समस्त चेष्टा राधा जी की प्रसन्नता हेतु और श्रीराधा जी की अपूर्व निष्ठां श्रीकृष्ण की प्रसन्नता का प्राण है।

श्रीकृष्ण वृन्दावन छोड़ मथुरा को जा रहे हैं, गोप गोपिकाओं से विदा ले अक्रूर जी संग मथुरा के रास्ते पर निकल पड़े हैं। दूर एक पेड़ के नीचे बैठ श्रीराधा जी श्रीकृष्ण को निहार रहीं हैं। मौन, आँखें भरी पर आँसू नहीं गिरने दिए।

राधा पर दृष्टि जाते ही श्रीकृष्ण बोले- “काका रथ रोको” श्रीकृष्ण राधा जी की ओर भागे। उनके पास पहुँच कर बोले- “राधे ! मैं जा रहा हूँ, मुझे रोकोगी नहीं” श्रीराधा जी मौन रहीं तो कृष्ण फिर बोले “राधे मुझे रोकोगी नहीं”। राधाजी रूंधे गले से धीरे से बोल उठी-“कान्हा जब आप ने जाने का निश्चय कर ही लिया है तो अब आप को कौन रोक सकता है।”

कृष्ण बोले- नहीं, राधे ! तुम एक बार मुझे कहो तो मैं नहीं जाऊँगा” श्रीराधा कहती हैं “कान्हा ! अगर आप सब से पहले मेरे पास आते तो मैं आप को रोक लेती, और तब आप कहाँ जाते, पर अब नहीं क्या राधा इतनी स्वार्थी हो गई राधा की ख़ुशी तो अपने कान्हा की ख़ुशी में ही है।” कृष्ण ने कहा- “मुझ से एक वादा करो प्रिये कभी आँख न छलके और वृज न छूटे, गोप-गोपिकाएँ सब तुम्हारी शरण में हैं अब।” श्रीकृष्ण का मन भर आया झट से बांसुरी राधाजी के चरणों में रख और रथ की ओर भागे।

“काका ! जल्दी चलो” कान्हा ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा “जल्दी रथ हाँको जल्दी” अक्रूर जी परेशान हो गए। कान्हा बोले-“काका, अगर मेरी आँख छलक गई तो राधा के आँसुओं से पूरा ब्रह्माण्ड डूब जाएगा।”

संत कहते हैं श्री राधा जी ने पूरी लीला के दौरान एक भी आंसू नहीं गिरने दिया। और न ही वृज से कभी बाहर गई कोई गोप गोपी भी वृज से बाहर नहीं गया। जब तक गोविन्द ने उन्हें 100 वर्ष बाद मिलने को बुलाया नहीं। अपने प्रेमास्पद की प्रसन्नता के लिए अपने आँसुओं को विरह रुपी अग्नि में जला दिया।

यही तो है “प्रेम की प्रकाष्ठा”।
———-:::×:::———
“जय जय श्री राधे”

Leave a Reply